Rajasthan SSO ID Making

By | March 30, 2021

Rajasthan SSO ID Making,sso id कैसे बनाया जाता है ,ऑनलाइन फॉर्म अस अस आईडी से कैसे भरता है जानकारी

आजकल डिजिटल जमाना है जैसा की सभी काम कंप्यूटर के जरिये होने लगे है. जिससे काम काफी आसान हो गया है और समय भी कम लगाने लगा है।

इस ऑनलाइन काम को और अधिक सरल बनाने के लिए कुछ जानकारियों का होना जरुरी है जिससे हम अपना सभी ऑनलाइन काम आसानी से कर सकते है। इसमें एक जानकारी है sso बनाना की किस तरह से इसको बनाया जाता है जिससे हमारे दैनिक काम आसानी से हो जाते है।

  • १०० से अधिक विभागों के फॉर्म sso id से भरे जा सकते है।
  • राजस्थान की sso id का रजिस्टेशन कैसे किया जा सकता है जानकरी देने ने जा रहे है।
  • किन किन तरीको से आप बना सकते है इसको
  • आधार कार्ड से
  • भामाशाह कार्ड से
  • जीमेल आईडी से
  • sso id बनाने के लिए लिंक

सबसे पहले हम बात करते है की किसी भी सरकारी योजना का लाभ लेने के लिए उस फॉर्म को ऑनलाइन करने के लिए किसी भी एक खाते की जरूरत होती है।

आधार कार्ड क्या है

जैसा की आधार कार्ड हर व्यक्ति का बना है जिसका पूरा का पूरा बायोमेट्रिक जानकारी उसमे होती है।

जैसे हमारी रेटिना को स्कैन किया जाता है साथ ही हाथ की अंगुलियों को स्कैन किया जाता है। इन सब से किसी भी व्यक्ति की पहचान के लिए लिया जाता है जिससे एक कार्ड बनाया जाता है।

जिसको आधार कार्ड बनाया जाता है। आधार कार्ड बन जाने कोई भी खोया हुआ व्यक्ति या ऐसा व्यक्ति जिसकी कोई शिनाख्त नहीं हो पाती है आसानी से शिनाख्त हो जाती है। कई बार बालक भी खो जाते है।

rajasthan sso id को बनाते समय आधार कार्ड भी लिंक किया जाता है।

जिसके कारण सभी की सभी जानकारिया भरे जाने वाले आवेदन जैसा की स्कालरशिप का फॉर्म में आसानी से वेरीफाई हो जाता है।

Rajasthan SSO ID Making
Rajasthan SSO ID Making

भामाशाह कार्ड

अगर आप राजस्थान के निवासी है तो भामाशाह कार्ड के बारे में जानते जरूर होंगे। जिसमे घर की बड़ी महिला को मुखिया बनाया जाता है और सभी परिवार के सदस्य उसके साथ जोड़े जाते है जिसमे महिला का बैंक खता भी जोड़ा जाता है जिससे किसी भी सरकारी योजना की राशि को उसमे भेजा जा सके।

भामशाह कार्ड को राजस्थान में जिओ मोबाइल कार्ड के नाम से भी जाना गया क्योकि सबसे ज्यादा भामाशाह के कार्ड के जरिये ही sso id बनायीं गयी थी और फ्री मोबाइल दिया गया था जब भामशाह कार्ड की योजना को चालू कियागया था Rajasthan SSO ID Making

  • जिस महिला मुखिया का कार्ड बनाया गया था
  • उसके बैंक खाते 1100 रूपये की राशि को भेजा गया था योजना में
  • इसके आलावा जो भी आयकर देने वाला समूह था उसको उसको भी भामाशाह कार्ड के जरिये अलग किया गया था।
  • जिसके कारन आयकर देने वाले या धनाढ्य लोग गरीब लोगो की योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे है।
  • स्कालरशिप का आवेदन करने के लिए भी भामाशाह कार्ड से बनी हुई
  • rajsthan sso id का ही उपयोग किया जाता है।
  • इस भामशाह कार्ड को स्वास्थय बीमा योजना से भी जोड़ा गया है।
  • जिससे आम आदमी का नि :शुल्क इलाज हो जाता है।
  • Rajasthan SSO ID Making

इसके जरिये भी सतयापन हो जाता है की योजना भी आवेदन करने वाले के लिए योग्य है या नहीं

कही जो व्यक्ति इस योजना के योग्य ही नहीं है वो इसके लिए आवेदन कर अनुचित लाभं तो नहीं ले रहा है। इसमें भी rajsthan sso id की ही भूमिका रहती है।

भामशाह कार्ड से sso बनाया जाना

भामाशाह कार्ड से भी sso id बनाया जाता है। जिसके जरिये आसानी सभी तरह के आवेदन भरे जाते है।

इसके जरिये भी आसानी से सभी तरह के सरकारी योजना के फॉर्म भर सकते है। जिससे आसानी से कोई भी अपना आवेदन सकता है।

  • भामाशाह कार्ड से बनी sso id से स्वास्थय योजना लाभ भी लिया जाता है।
  • महिलाओ को भी बच्चा जन्म देते समय भामाशाह योजना का लाभ मिल जाता है।
  • sso id के जरिये घर बैठे ही महिला सभी तरह के आवेदन कर सकते है।
  • Rajasthan SSO ID Making

sso id जब भामशाह से बनायीं जाती है तो स्कालरशिप का ऑनलाइन आवेदन भी किया जा सकता है जिसमे सभी परिवार के सदस्यों का आवेदन हो सकता है।

Gmail से कैसे बनाये sso id

साधारणतया rajasthan sso id बनाने में google की gmail का भी उपयोग किया जा सकता है जिसके जरिये आसानी से किसी भी आवेदन को भरा जा सकता है।

जैसा की gmail के जरिये हम अपनी अपनी अन्य जानकारिया और डॉक्यूमेंट को भी सुरक्षित रखा जा सकता है। जिसके कारन सभी तरह के सूचना का लगभग आदान प्रदान किया जा सकता है।

  • राजस्थान sso id बनाने में सबसे ज्यादा gamail का ही उपयोग किया जा रहा है।
  • इसका मुख्या कारन लोगो के पास पहले से ही gamil का अकाउंट बना होता है।
  • जिससे आसानी से sso id बना ली जाती है जिसके जरिये स्कॉलरशिप जैसे फॉर्म को भी भरा जाता है।

इस तरह से राजस्थान की sso id को बनाया जाता है और उपयोग में लिया जाता है। जिससे जन साधारण को मिलने वाली सभी की सभी योजनाओ को लिया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *