मानव अधिकार आयोग शिकायत कैसे करे -COMPLAIN FILE HUMAN RIGHT COMMISION

By | September 14, 2021

मानव अधिकार आयोग शिकायत कैसे करे -COMPLAIN FILE HUMAN RIGHT COMMISION ,HUMAN RIGHTS,HUMAN RIGHT FOR COMMAN MAN,MANAV ADHIKAR,

मानव अधिकार क्या है ?

https://nhrc.nic.in/hi

क्लिक करे लिंक पर मानव अधिकार आयोग की वेबसाइट पर जाने के लिए एक दूसरे व्यक्ति में भाषा में ,धर्म ,जाति,स्थान और रीति रिवाज तथा रंग के आधार पर भेद किया जाता रहा है इन सभी भेदभावों को दूर करना तथा आमजन में न्याय की समानता की प्राप्ति करना ही मानव अधिकार को परिभाषित करना ठीक होगा ।

भारत जैसे बड़े देश में धर्म जाति के भेदभाव को मिटाने के लिए भारत को धर्म निरपेक्ष राष्ट्र घोषित किया गया है। क्योकि सविधान निर्माता जानते थे की असख्य भाषी देश में हर आमजन के साथ पूरे देश में संसाधनों को न्याय संगत बाटा जाना सम्भव तभी होगा जब एक ऐसे कानून की परिकल्पना की जाये जो सबके लिये समान हो इस सभी उद्देश्यों की पूर्ति के लिए मानव अधिकार आयोग की रचना का प्रस्ताव लाया गया जिसमे हर आमजन की पहुँच हो सके।

मानव अधिकार आयोग के कार्य

https://dkhindinews.com/pil-suprim-court-india-जनहित-याचिका-सुप्रीम-क/

  • कोई भी विभाग जब भेदभाव करे उशके खिलाफ करवाही करना जैसे मुख्यत पुलिस
  • विभाग की शिकायते मानव अधिकार आयोग मे की जाती रही जैसे गत वर्षो मे कई
  • उच्च अधिकारियों को मानव अधिकार आयोग ने तलब करके उनके
  • खिलाफ अनुशाशनात्मक कारवाही की
  • और जिन लोगो की सुनवाई शोषण के विरुद्ध नहीं की गयी
  • थी उनकी सुनवाई न्याय संगत पहल करके कारवाई जैसे की भोपाल गैस त्रासदी
  • भारत मे राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग का पता —फरीद कोट हाउस ,कॉपर निकस मार्ग ,नई दिल्ली -110001

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग

फरीद कोट हाउस ,कॉपर निकस मार्ग ,नई दिल्ली -110001

मानव अधिकार सरक्षण अधिनियम 1993 के जरिये इसका उदभाव हुआ इसके अधिकार

सम्पूर्ण भारत पर है जम्मू कश्मीर पर कुछ हद तक सीमित अधिकार दिये हुये है ।ईशको 28 सितंबर 1993 मे चलन मे आया

  • राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग का गठन का क्रम ईश प्रकार रहा
  • केन्द्रीय सरकार एक निकाय का जो राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के नाम से जाना जाएगा गठन करेगी
  • ईश अधिनियम के अधीन उसे प्रदत शक्तियो का प्रयोग करने और उसे सोपे गये कृत्यों का पालन करने के लिये गठन करेगी
  • आयोग निम्न सदस्यो से मिलकर बंनता है । जैसे अक अध्यक्ष जो उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश रहा है।
  • एक सदस्य जो उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश रहा है या है। एक सदस्य जो उच्च न्यायालय का न्याय मूर्ति है या रहा है ।
  • दो सदस्य ऐसे व्यक्तियों मे से नियुक्त किए जाएगे जिनको मानव अधिकारो की जानकारी पूरी तरह से हो या व्यवहार का अनुभव हो।
  • राष्ट्रीय अल्प शख्यक आयोग (राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ,राष्ट्रीय अनुसूचित जन जाति आयोग )
  • राष्ट्रीय महिला आयोग के अध्यक्ष धारा 12 के खंड के अध्यक्ष विभिन्न कामो मे आयोग के सदस्य समझे जायेगे
  • एक महासचिव होता है जो आयोग का मुख्य कार्यपालक अधिकारी होगा और वह आयोग की एशी शक्तियों का प्रयोग और कृत्यों का निर्वहन करेगा
  • जो (न्यायिक कृत्यों और धारा 40 ख के अधीन विनियम बनाने की शक्ति के सिवाय )जो यथा स्थिति आयोग या अध्यक्ष उसे प्रायोजित करे।
  • आयोग का मुख्यालया दिल्ली मे होगा और आयोग केंद्र सरकार के पूर्वानुमोदन से भारत के अन्य स्थानो पर कार्यालया स्थापित कर सकेगा

मानव अधिकार आयोग मे अध्यक्ष और अन्य सदस्यो की नियुक्ति की जानकारी

राष्ट्रपति अपने हस्ताक्षर और मुद्रा सहित अधिपत्र द्वारा अध्यक्ष और अन्य सदस्यो को नियुक्त करेगा । परंतु ईश उपधारा के अधीन प्रत्येक नियुक्ति एसी समिति की शिफारिशे प्राप्त होने के बाद की जाएगी जो निम्न से मिलकर बनेगी

  • प्रधानमंत्री -अध्यक्ष
  • लोक सभा का अध्यक्ष -सदस्य
  • भारत सरकार के गृह मंत्रालय का भार साधक मंत्री -सदस्य
  • लोक सभा के विपक्ष का नेता – सदस्य
  • राज्य सभा के विपक्ष का नेता -सदस्य
  • राज्य सभा का उप सभा पति -सदस्य
  • परंतु यह और की भारत के उच्च नयायालय का आसीन कोई न्यायमूर्ति भारत के
  • मुख्य न्यायमूर्ति से परामर्श करने के बाद ही नियुक्त किया जाएगा अन्यथा नहीं ।
  • अध्यक्ष या किशि सदस्य की नियुक्ति केवल इस कारण से अविधिमान्य नहीं होगी
  • की (उपधारा 1 के पहले परन्तु क मे निर्दिष्ट समिति मे किशि सदस्य की कोई रिक्ती है ।

अध्यक्ष या सदस्यो का त्यागपत्र या हटाया जाना

अध्यक्ष या कोई सदस्य राष्ट्र पति को संबोधित कर अपने हस्ताक्षर सहित लिखित सूचना कर अपना पद त्याग सकेगा मानसिक या शारीरिक कमी के कारण भी पद से हट सकता है इशके अलावा राष्ट्रपति भी प्रक्रिया अपना कर सदस्य को हटा सकता है । किसी अपराध मे दंडित किए जाने पर इसके अलावा और भी कई कारण हो सकते है ।

मानव अधिकार आयोग के कृत्य और शक्तिया

मानव अधिकार आयोग शिकायत कैसे करे -COMPLAIN FILE HUMAN RIGHT COMMISION
मानव अधिकार आयोग शिकायत कैसे करे -COMPLAIN FILE HUMAN RIGHT COMMISION
  • स्वप्रेरण या किशी पीड़ित व्यक्ति द्वारा या उसकी और से किशी व्यक्ति द्वारा या
  • उच्च न्यायालय के निर्देश पर उषको प्रस्तुत की गयी अर्जी पर –

मानव अधिकारो का उषके किशी लोक सेवक द्वारा अतिक्रमण किए जाने या दुष्रप्रेरन किये जाने की या ऐसे अतिक्रमण के निवारण मे किसी लोक सेवक द्वारा उपेक्षा की ,शिकायत के बारे मे

जांच करना

  • किशि न्यायालय के समक्ष लंबित किशी कारवाही मे जिशमे मानव अधिकारो
  • के अतिक्रमण का कोई अभिकथन अंतर्वलित है उश न्यायालय के अनुमोदन से
  • मध्यक्षेप करना ।
  • तत्समय प्रवृत किशी विधी मे किशी बात क होते हुये भी राज्य सरकार के नियंत्रण मे अधीन किसी जैल या किसी अन्य संस्था का जहा व्यक्ति उपचार ,सुधार ,या सरक्षण के प्रयोजन के लिये निरुध्द या दाखिल किये जाते है ।
  • वहा के निवाशियों के जीवन की परिस्थितियो का अध्ययन करने के लिये निरीक्षण करना और उन पर सरकार को शिफारिश करना
  • सविधान या मानव सरक्षण के लिये तत्समय प्रवुत किशि अन्य विधी द्वारा या उसके अधीन उपबंधित रक्षोपायो का पुनर्विलोकन करना और उनके प्रभाव पूरन कार्य अवलोकन के लिये उपायो की शिफारिश करना

https://dkhindinews.com/jan-suchana-portal-2019/

500 -500 रुपए जमा किए जन धन खातो मेक्लिक

इस आर्टिकल के जरिये आप को मानव अधिकार आयोग की प्रक्रिया को बताया गया है जिसके कारण आपको मानव अधिकारो की जानकारी मिल सकेगी

साथ ही इस आर्टिकल मे मानव अधिकार आयोग का भी पता दिया गया है जिससे संपर्क कर आप अपने सवालो का जवाब ले सकते है।

जल समस्या

जैसा आमजन से जुड़ा मुद्दा है पानी का इसके लिए आसानी से आवेदन कर सकते है। मानव अधिकार आयोग के मंच पर भी पीने के पानी की समस्या को उठाया जा सकता है।

इस समस्या के समाधान करने के लिए जन स्वास्थय अभियांत्रिक विभाग के अधिकारियो को तलब किया जा सकता है। मानव अधिकार आयोग अधिकारी के जरिये आमजन को पीने के पानी की समस्या का समाधान आसानी से प्रशासनिक पहल पहल से कराया जा सकता है।

पुलिस शोषण समस्या

अधिकरतर देखा गया है कि बड़े बड़े लोगो दबाव में आकर पुलिस जरिये आमजन को परेशा किया जाता है इस बात को लेकर अधिकार आयोग जरिये पुलिस विभाग पर समय समय कारवाही की है जिससे आमजन को पुलिस के जरिये शोषण से मुक्ति मिली है।

कई कई बार मानव अधिकार आयोग ने पुलिस के बड़े बड़े अधिकारियो पर भी कारवाही की है जिसमे उनको अपनी नौकरी भी गवानी पड़ी है और जुर्माना भी भरवाया गया है।

  • मानव अधिकार आयोग पुलिस विभाग के जरिये किये जा रहे भ्र्ष्टाचार को रोकने का सबसे बड़ा मंच बन गया है।

किसी भी सरकारी विभाग में आमजन को न्याय दिलाने सम्मान पूर्वक व्यवहार करवाने के लिए हमेशा तत्पर रहता है।

मानव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *